मुन्तशिर तो होना पड़ता है's image
Poetry PagesPoetry2 min read

मुन्तशिर तो होना पड़ता है

Tulsi Jeetendra MalamTulsi Jeetendra Malam February 27, 2023
Share0 Bookmarks 60740 Reads1 Likes


वो घर के आँगन को छोड़ना पड़ता है

गौरीगंज की गलियों से भी मुँह मोड़ना पड़ता है

वो Science रखके साहित्य में रूचि रखना

छोड़ नौकरी मन था फिल्मों में गीत लिखना

सपने ने इतना सताया कि घर भी न बसा पाया

क्या करें? थोड़ा मुन्तशिर तो होना पड़ता है...


बम्बई जाने बाबा को मनाना पड़ता है

माँ का स्नेह भरा आँचल भूलाना पड़ता है

दोस्तों को रेल्वे स्टेशन पर आख़री बार मिलकर

कलम की शक्ति को उजागर करने यार

जीवन में हांसिल करने एक मुकाम

क्या करें? थोड़ा मुन्तशिर तो होना पड़ता है...


फुटपाथों पर

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts