अश्क's image
Share0 Bookmarks 45457 Reads1 Likes

~श्री कृष्ण गोविंद हरे मुरारी, 

हे नाथ नारायण वासुदेवा।~


वो अश्क़ अश्क़ बह रहमैं उदर से उतर रही

वो आते जाते उधर से

जिधर से मैं गुजर रही

वो नब्ज़ नब्ज़ सम्भाल रहमैं संभल संभल के चल रही

वो मन-ए-मकां बना रहे

मैं मनसूबे कुचल रही

हया नही हवा में

जो ओर ओर चल रहे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts