हिंदी कविता's image
293K

हिंदी कविता

हम रखे थे उम्मीदे जिनसे वो जालिम चालबाज निकले

ढूंढते मिले भी सफर में पर वो बहाने बाज निकले।

उम्मीदे ना.छोड़ी हमने उसको पाने की पर किस्मत ही बेकार निकली

लाख कोशिश कर ली हमने पर पैदाईशी परेशान निकले।

Read More! Earn More! Learn More!