कविता का रंग's image
96K

कविता का रंग

कवि होने की शर्त हैं,   हर कविता का सम्मान, 
स्वरचित हों या किसी अन्य की, पर हों उस पर मान, 
विचार, भावनाएं, शब्द  कितने पहलू कविता के, 
जैसे पृष्ठ पर अवतरित हृदय,  हर रचयिता के, 
श्रोता के मन को  कवितायें यूं ही नहीं भाती, 
कवि का  दिल हों  जब समर्पित, कलम खुद ब ख़ुद चल जाती, 
कितने रंग की कविता, कितने रंग में लिख देता,
इस अंदाज़ से शब्दों को ,  कोई और नहीं कहता, 
कविताओं की तुलना करना फिजूल हैं, 
हर रंग पर, हर रंग का  वार जैसे त्
Read More! Earn More! Learn More!