रात ठहर गई है मुझमें's image
262K

रात ठहर गई है मुझमें

मेरी ज़िंदगी की कैफियत तो पूछिए ही मत,

एक घोर घनी रात ठहर गई है मुझमें I

इसका उजाला न जाने कब आएगा,

उस कैफियत को भी रहने की आदत हो गई है इसमें I I


Read More! Earn More! Learn More!