रात की दीवार पर's image
272K

रात की दीवार पर

आज फिर इक नया ख्वाब लिखते हैं

आने वाली नई सहर' का इक नया आफ़ताब' लिखते हैं


ख़ामोश है सवाल कुछ पिछली कई रातों से

चलो आज उनके भी जवाब लिखते हैं


इक दौर बीता, बीती इक उम्र आजमाइशों में

चलो आज ज़िन्दगी का भी कुछ हिसाब लिखते हैं


क्यूं रोज़ निहारते हो उस चांद को? क्या गुफ्तगू करते हो?

चलो आज ज़मीं पर हम अपना महताब' लिखते हैं

Read More! Earn More! Learn More!