बिटिया हुई है's image
#SheTheLeaderPoetry3 min read

बिटिया हुई है

SwatiSwati March 2, 2023
Share0 Bookmarks 60250 Reads1 Likes


घर में गूंजती हंसी खो गयी है, 

मुस्कराहट की कुछ कमी हो गई है, 

माँ की आंखें भी अब नम हो गईं है, 

जब से पता चला है बिटिया हुई है, 

काजू की मिठाई नहीं लाई, 

नर्स पूछती अम्मा जब आई, 

खामोश देख वह फिर बोली, 

लगता है जल्दी में नहीं लाई, 

अम्मा खामोश बस उसे निहारती, 

मानो लड़का होता तो और ख्वाब सवारतीं, 

तभी अम्मा को रोने की आवाज आई, 

मानो बिटिया उन्हें पुकारती, 

आखों में उनके आंसू आने लगे, 

मानो कुछ स्वप्न डराने लगे, 

वह सहम गयी, फिर खामोश, 

कुछ रिश्तेदार भी आने लगे, 

नर्स देख सब कुछ, सोच रही थी, 

अम्मा से मानो कुछ पूछ रही थी, 

सब्र का अंतिम बांध टूटा, 

अम्मा आप किसी की बिटिया नहीं ? 

इस सवाल से खामोश माहौल टूटा, 

 ये सुन अम्मा हैरान नहीं हुई, 

उसके सवालों से परेशान नहीं हुई, 

मानो इसी सवाल की आश थी, 

किसी दर्द समझने वाले की तलाश थी, 

आखों से आंसू बहने लगे, 

कहती दर्द पुराने मेरे दिल में रहने लगे, 

बिटिया देवी माँ का रूप है, 

पर क्या सामाज मंदिर का स्वरूप है? 

रोज़ सुबह अखबार पढ़ा नहीं जाता अब, 

खबरों में कुछ नया नहीं आता अब, 

खबर किसी अत्याचार की होगी, 

या नारी के सम्मान के व्यापार की होगी, 

मैं उसे लोरी सुना रातों को सुला सकती हूँ, 

बालो

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts