#बिखरीस्याही - बचपन का जमाना भी यारो, क्या खूब जमाना होता था।'s image
हिंदी कविताPoetry1 min read

#बिखरीस्याही - बचपन का जमाना भी यारो, क्या खूब जमाना होता था।

sujeet.rajawatsujeet.rajawat August 3, 2023
Share0 Bookmarks 44222 Reads1 Likes


बचपन का जमाना भी यारो, 

क्या खूब जमाना होता था। 

जब पापा के कंधो पर, 

मेला देखने जाना होता था।। 


छोटी सी ख्वाइश होती थी,

और छोटे सपने होते थे।। 

10 पैसे का मतलब तो, 

खुशियों का खजाना होता था।। 


बचपन का जमाना भी यारो, 

क्या खूब जमाना होता था।। 


जब चाँद पे परियां रहती थी,

और चंदा मामा होता था। 

जब बारिश के पानी पर,

जहाज हमारे चलते थे। 

और मैले - कुचले कपड़ो में,घर दौड़ के आना होता था।। 


बचपन का जमाना भी यारो, 

क्या खूब जमाना होता था।। 


हर धुप सुहानी लगती थी, 

और शाम फ़साना लगता था। वो दादी नानी के किस्से, 

सारे सच्चे लगते थे।  

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts