वो फेमिनिज्म है न's image
65K

वो फेमिनिज्म है न

मैं सफर कर रही थी...

हाथ में किताब थी!

सुजाता चोखेरबली मैम की किताब "एक बटा दो”....

ऑफिस का काम आ गया, तो किताब किनारे रख दी... 

फोन में व्यस्त हो गई...

पड़ोस वाले भैया ने झट से मुझसे वो किताब मांग ली;  

जैसे वो प्रतीक्षा में हों...
मेरे किताब बंद करने की...

मैंने दे दी, वो पढ़ने लगे...

पढ़ते-पढ़ते उन्होंने काफी वक्त गुजारा, फिर मैं भी उनसे किताब वापस न मांग सकी...

मैंने फोन में ही खुद को व्यस्त रखा!

काफी देर पढ़ने के बाद...

उन्होंने किताब को बंद किया;

एक लंबी गहरी सांस ली... 

फिर मुझे किताब
Read More! Earn More! Learn More!