टूटते समाज की घुटन's image
Poetry2 min read

टूटते समाज की घुटन

suresh kumar guptasuresh kumar gupta March 5, 2023
Share0 Bookmarks 61201 Reads0 Likes


आवाज़ उठाई उसके जुल्मो के खिलाफ़
वो आया मेरी गली शायद मुझे डराने को

वो चार का ग्रुप आवाज़ में आक्रोश लिए
देखना चाहता खौफ में मुझमे परिवार में

पास पडोस झांकते अर्द्धखुली खिड़की से
काश वे साथ आ जाते हज़ारो की भीड़ में

काश वे भी बन जाते मेरी सशक्त आवाज़ 
तब कैसे कोई फैलाता आतंक समाज मे

'काश' सदा ही पर यहां बेबस होता गया
कोई आगे न आया किसे दोषी करार देता

क्या मैं स्वयं अपने गुनाह का शिकार था
या गुनाह है बैठे डर का उन छुपे पड़ोस में

हम हज़ारो अकेले रहे वे चार थे जुड़े जुड़े
गुनाह ग्रुप के आवाज़ दबाने की चाह का

मजबूरी की बेडिया हज़ारो पड़ोसियों की
साथ खड़े रहने का ख्वाब पाले आपस में

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts