परमात्म की सता's image
75K

परमात्म की सता



बीज की ताकत धरती पाटने में सक्षम है
खुली आँखों निहारा बीज में वॄक्ष किधर है

बीज में वृक्ष की सत्ता ब्रह्म में कई जगत है
चिन्मात्र परमात्मा अणु के अणु में छिपा है

जीवो की अन्तरात्मा में रहता वह एक है 
अन्तःकरण में ये नाना रूपो में दृष्टिगत है

मन ज्ञानेद्रियों से अगम्य शून्य आकाश है
परमात्म सता के अधीन स्फुरित होता है

देशकाल परे अजन्मा अद्वितीय निर्द्वंद है
मायातीत है जिसमे जगत की प्रतीति है

वो स्वतः सिद
Read More! Earn More! Learn More!