महाकवि तुलसीदास की सादगी's image
100K

महाकवि तुलसीदास की सादगी

नही कालिदास से मूढ़ नही वे गंवार थे
नही विदुषी पत्नी थी लात मार भगाती
जब यह इन्तहा हुई थी मासूमियत की
ये कहानी हुई महाकवि तुलसीदास की

सादगी प्यार का समुंदर हिलौरे लेता था
बरसो बाद एकाकी जीवन में बहार हुई
न माँ बाप भाई बहन न प्यार जाना था
जीवन मे भार्या आयी जीवन बहार था

भार्या प्रतिमूरत प्यार की उसे ख्याल था
जीवन का हर पल उसके नाम कर दिए
सादा सा एक वाकया जीवन बदल गया
मायके गयी बीवी के पीछे वह चल दिए

Read More! Earn More! Learn More!