जगाते मनो में आस्था's image
Poetry2 min read

जगाते मनो में आस्था

suresh kumar guptasuresh kumar gupta April 1, 2023
Share0 Bookmarks 62472 Reads0 Likes
मर्यादा भुलाकर धर्म प्रस्थापित करने
उमड़ता हुजूम लिए जुलूस निकालते
निकल पडे थे आस्था का चोला ओढ़े
जगाते मनो में आस्था जन्मदिन मनाते

संवेदनशील इलाको में संवेदनहीन हो
उतेजक नारे लगाते हथियार लहराते 
मर्यादा भूल बैठे थे भीड़ को उकसाते 
जगाते मनो में आस्था जन्मदिन मनाते

क्या यदि तरीका वचा धर्म ऐसे बचाते
आस्था के नाम पत्थरबाज़ों को जगाते
पावन राम जन्मदिन पर उत्पात मचाते
जगाते मनो में आस्था जन्मदिन मनाते

लोगो को उकसाते कैसा समाज बनाते
धर्मिक जुलूसों में हथियार लेकर जाते
था शुभ अवसर कैसा उन्माद जगाते
जगाते मनो में आस्था जन्मदिन मनाते

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts