डर डायन बनकर आ रहा है's image
Poetry2 min read

डर डायन बनकर आ रहा है

suresh kumar guptasuresh kumar gupta February 28, 2023
Share0 Bookmarks 62150 Reads0 Likes

वर्षो पहले दफनाया आज जिंदा नजर आता है
गमगीन माहौल दिल को चीर रही हर आहट है

हंसी खुशी के गुलदस्ते रहे क्यों आज वीराने है 
प्राण हलक में अटके डर डायन बन आ रहा है

साम्प्रदायिकता का राग ठंडा पडता जा रहा है
अंगारे राख में तब्दील हुए फूल मुरझा रहा है

मयंक की मद्धिम चांदनी में दिल घबरा रहा है
दिल पर हावी हो डर डायन बनकर आ रहा है

वक्त है आज लड़ पडो अदृश्य दुश्मन खड़ा है
वह कब टूट पडेगा अजीब खौफ का माहौल है 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts