चक्षु पटल उघाडिए's image
103K

चक्षु पटल उघाडिए


भृकुटि से तकदीर बदल जाती
मगर चक्षुहीन कहते रहते सभी

देर हुई है चक्षु उघाड़ो महादेवी
आसभरी नजरो से देखते सभी

न्याय आज गरीबो से दूर खडा
गरीब किसका द्वार खटखटाए

अभ्यर्थी द्वार पर बरसो पड़े हुए
न्याय वकील के शुल्क बढ़ चले
Read More! Earn More! Learn More!