अष्टावक्र का आत्मज्ञान's image
Poetry2 min read

अष्टावक्र का आत्मज्ञान

suresh kumar guptasuresh kumar gupta April 14, 2023
Share0 Bookmarks 62646 Reads0 Likes

काफी वक्त से करते आत्मतत्व तलाश
जनक धर्म सभाओ के कर रहे सवाल
दूरदूर से आते थे विद्वान प्रकांड पंडित
जबाब रहे नदारद पर सरल रहे सवाल

वेद धर्मशास्त्र पारंगत आये कई विद्वान
तरह तरह से बताते वे आत्मतत्व ज्ञान
दूर दूर से पहुंचते रहे ऋषि और विद्वान
अष्टावक्र पहुंचे थे ऋषि कहोड़ के साथ 

तत्ववेता मिले जिसने किया तत्वदर्शन 
न करा सका वो आत्मतत्व साक्षात्कार
आत्मतत्व द्रष्टा हो ऐसा विद्वान दुर्लभ 
कुछ दिन देखते विद्वानो का शास्त्रार्थ

तब ऋषि अष्टावक्र रखे अपने विचार 
इस सभा मे नही आत्मतत्व जानकार
ऋषि कहे शास्त्र न बता सकता सत्य 
शास्त्र बयान करे नियम और सिद्धांत

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts