आज शुभ दिवस आया है's image
Poetry2 min read

आज शुभ दिवस आया है

suresh kumar guptasuresh kumar gupta February 28, 2023
Share0 Bookmarks 56545 Reads0 Likes


प्रियतम मिलन को मनवा क्यों गली गली भटके
प्रियतम खड़ा सन्मुख तेरे घूंघट के पट न खोले 

सीधी राह सुझाता जाए तू गली गली भटक जाए
कभी पहुंचे काम के द्वारे कभी क्रोध पनप जाए

क्रोध जन्म देता मोह को मोह लोभ गली ले आए
उलझा है इस भूलभुलैया में मिलन कैसे हो पाए

कौन है तू कहाँ से आया और कहां तुझे जाना है
मुंह से हटा संशय का पर्दा जीवन सफल हो जाए

कहाँ जग जा रहा पल भर सोच विचार देख ले
बैठ गुरु श्री चरणों मे अर्पित मन सुमन ये करले<

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts