Religious Harmony Poem's image
Share0 Bookmarks 41781 Reads0 Likes

लड़ते हुए इंसानों को इंसान से

देख ज़िगर अफ़गार होता हूं मैं

मिटा रहे मानवता की पहचान ये

हर रात यही सोच रोता हूं मैं।


क्या जात मेरी क्या औकात तेरी

इस तू मैं क

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts