एक मुलाकात's image
102K

एक मुलाकात

करी तो थी इतनी बातें तुमसे
तुम्हारा हालचाल भी तो पूछा था न,
शुरुआत तो हो चुकी थी न मेरे ख्वाबों में,
हकीकत से रूबरू शायद तुम पहली बार हो रही हो,
मेरे तो ख्वाब, हकीकत सब तुम्ही हो ,
तुम्हारी तसल्ली के लिए,
चलो आज फिर पहली बार चाय पर मिलते हैं ,
तुम जब आना, हमारी नज़रें मिलें तो थोड़ा शरमा कर मुस्कुराना,
और फिर वापस इधर-उधर देख के नज़र उठना,
नज़र से नज़र का रिश्ता कायम हो तो,
दिल एक साथ धड़कने लगे तो,
घबराना नहीं, कहीं दूर तक जाने के लिए साथ निकलना पड़ता है,
लफ़्ज़ों की कमी महसूस हो तो ,
Read More! Earn More! Learn More!