गुंज's image
0 Bookmarks 176503 Reads0 Likes
गुंज दो की थी
सुनते चार थे
घनी दुपहरिया मे मिलते आठ थे
आज दुपहरिया जरूर है
लेकिन सन्नाटे के साथ
कभी रात मे भी 
गुंज होती थी
कुछ तो श़हर के भागे है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts