Laut aaya's image
Share0 Bookmarks 61533 Reads1 Likes

आदित्य एक बहुत प्यारा बच्चा है जो हर रोज पार्क मे जाता है खेलने के लिए पार्क घर से नजदीक ही है इसलिए वो अकेला ही वहां खेलने चला जाता है आज जब वो पार्क से घर आया तो एक लेडी को साथ मे लेकर आया आज संडे था इसलिए आदित्य के पापा घर पे ही थे

आदित्य ने डोरबेल बजाया तो दरवाजा उसके पापा ने खोला 

उन्होंने आदित्य से पूछा आदि ये कौन है?

आदित्य ने कहा - पापा ये महिमा आंटी है, इनको अपने घर का पता नही याद है इसलिए मैं इन्हे यहां ले आया ये आंटी बहुत अच्छी है इन्होंने मेरे साथ खेला भी है

अनिरुद्ध ने कहा ठीक है इन्हे अंदर ले आओ

आदित्य और महिमा अंदर गये आदित्य ने महिमा को सोफे पे बैठने को कहा अनिरुद्ध किचेन से पानी लेकर आया और महिमा की ओर बढ़ाया महिमा ने पानी पिया ।अनिरुद्ध ने आदित्य को फ्रेश होने के लिए कहा आदित्य रूम मे चला गया अनिरुद्ध भी सोफे पर जाकर बैठ गया अनिरुद्ध ने महिमा से पूछा आपका घर कहां है?

महिमा ने एक नजर उठाकर अनिरुद्ध को देखा और कहा मुझे नही पता, मुझे कुछ याद भी नही रहा है

अनिरुद्ध ने पूछा आपके परिवार में कौन कौन है?

महिमा ने कहा मुझे कुछ भी याद नही है बस मुझे मेरा नाम याद है

फिर से डोरबेल बजी

अनिरुद्ध ने दरवाजा खोला दरवाजे पर उसकी बीवी आंचल थी वो अंदर आयी तो उसने महिमा को देखा तबतक अनिरुद्ध भी दरवाजा बंद करके वहां गया था । आंचल ने अनिरुद्ध से पूछा ये कौन हैं तुम्हारे रिश्तेदार हैं क्या!

अनिरुद्ध उसे चुप रहने का इशारा करता है वो दोनो किचेन मे चले जाते हैं अनिरुद्ध कहता है ये महिमा है आदि को आज पार्क मे मिली थी वही इसे यहां लाया है इन्हे अपने घर का पता याद नही है और ना ही परिवार वालो का ही कुछ याद है

आंचल ने कहा तो हम क्या करें, ये हमारा घर है कोई होटल नही है, जाओ इन्हे पुलिस स्टेशन मे छोड़ के आओ इनके परिवारवालो ने गुमशुदगी का रिपोर्ट दर्ज तो करवाया ही होगा

अनिरुद्ध किचेन से बाहर आया महिमा घर को नजरे घुमा घुमा के देख रही थी अनिरुद्ध ने कहा चलिए हम पुलिस के पास चलते हैं वहीं से आपके परिवार का पता लगाते हैं महिमा अनिरुद्ध के पीछे चल पड़ी

वो लोग अब पुलिस स्टेशन मे थे अनिरुद्ध ने रिपोर्ट दर्ज करवा तो दी मगर पुलिस ने कहा जब तक इसके परिवारवालो का पता नही चलता तब तक आप इन्हे अपने साथ ही रखियेगा जैसे ही कुछ पता लगेगा तो हम आपको खबर कर देंगे आप इन्हे यहां ले आइयेगा अब अनिरुद्ध करता भी क्या अब तो पुलिस ने ही उसे साथ रखने का हुक्म दे दिया है वो महिमा को लेकर वापस घर गया महिमा को देखकर आंचल बोली मैंने कहा था इसे छोड़ कर आने को और तुम फिर से इसे अपने साथ ले आए हो अनिरुद्ध ने कहा मैं गया था इन्हे पुलिस स्टेशन मे छोड़ने पर उन लोगो ने कहा कि इन्हे अपने साथ ही रखना अब मैं पुलिस की बात को कैसे टालता इसलिए इन्हे घर ले आया ।उन लोगो ने देर तक बहस की तब तक तो महिमा आदि के साथ खेलकर उसे नहलाकर खिलाकर सुला रही थी जब दोनो की बहस खत्म हुई तो वो आदि को देखने गए उन्होंने देखा आदि तो सो गया महिमा भी आदि के पास ही सो गयी थी आंचल को चाहते हुए भी महिमा को घर मे जगह देनी ही पड़ी आदि महिमा के साथ बेहद खुश नजर आता था वो उससे और भी घुलमिल गया था अब उसे घर के रोज रोज के झगड़े जो नही सुनने को मिल रहे थे पहले जब घर मे मम्मी पापा झगड़त तो वो डर के कमरे मे छिप जाता था पर अब जैसे ही वो झगड़ने लगते हैं महिमा उसे पार्क मे लेकर चली जाती थी वहां वो दोनो घंटो तक साथ मे खेला करते थे अनिरुद्ध और आंचल मे बनती नही थी दोनो अक्सर लड़ते ही रहते थे किसी किसी बात पर और इनके झगड़े मे बेचारा आदि पीस जाता था

कुछ दिन बीत गए मगर पुलिस स्टेशन से कोई खबर नही आयी अनिरुद्ध खुद वहां पहुंच गया पता लगाने के लिए मगर उन्होंने कहा अभी कोई जानकारी नही मिली है जब पता चलेगा तो हम खबर कर देंगे ना आप बार बार यहां आकर खुद का भी और मेरा भी समय बर्बाद क्यों कर रहे हैं अनिरुद्ध घर लौट आया जब वो आदि के कमरे मे गया तो देखा आदि महिमा के पास बैठकर रो रहा है अनिरुद्ध उसके पास गया क्या हुआ बेटा तुम रो क्यों रहे हो आदि ने  कहा पापा देखो महिमा आंटी की तबीयत खराब है वो सुबह से मेरे साथ खेल भी नही रही है अनिरुद्ध ने महिमा के सर पर हाथ रखा वो बुखार से तप रही थी अनिरुद्ध ने कहा इन्हे तो वाकई मे बहुत तेज बुखार है हॉस्पिटल लेकर जाना पड़ेगा अनिरुद्ध महिमा को हॉस्पिटल ले गया हॉस्पिटल मे उसका इलाज हुआ तब वो थोड़ी ठीक हुई डॉक्टर ने अनिरुद्ध से कहा आपकी पत्नी अब ठीक है पर उनकी मानसिक स्थिति ठीक नही लगती है उनके इलाज के लिए आप हमारे यहां के डाॅक्टर से मिल सकते है डाॅक्टर ने अनिरुद्ध को एक कार्ड पकड़ा दिया और वहां से चले गए अनिरुद्ध कुछ कह भी नही पाया वो एक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts