कविता 

भूल मत करना's image
00

कविता भूल मत करना

कभी हीर कभी लैला
कभी शीरी की आवाज़ें 
मुझसे ये कहा करती हैं 
सुन ! ऐ नादान लड़की
पलट आ इन राहों से
ये तेरे पैर ज़ख़्मी कर देगीं
तुझको कोई नई राह 
नहीं चलने देगीं
ये राहें काँटों से भरी है
इनसे फूलों की उम्मीद
Read More! Earn More! Learn More!