नारी शक्ति's image
Share0 Bookmarks 48938 Reads2 Likes
महल खड़े हो जाते हैं
रिश्तों की मजबूत नींव पर
आशियाने चमकाए जा सकते हैं
त्याग की दहलीज पर
जर्रा जर्रा बिखर जाता है महल और दुमहलों का
जब एक आह निकलती है नारी के" क़ल्ब"से
शैलेंद्र शुक्ला"हलदौना"

क़ल्ब= आत्मा,हृदय

**अंग्रेजी अनुवाद **
woman power
if you have good relation bonding ,postiv
Send Gift

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts