सिर्फ़ तुम's image
Share0 Bookmarks 0 Reads2 Likes
मेरे सपनों में जो आता है
वो हो सिर्फ़ तुम 

मेरे एहसासों के तारों को 
रोज़ छेड़ जाता है 
वो हो सिर्फ तुम

मेरी हर ग़ज़ल ,
हर कविता का
जो प्राण है 
वो हो सिर्फ तुम 

मेरें हृदय में जो होता 
मंद मंद स्पंदन है 
वो

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts