30 जनवरी's image
304K

30 जनवरी

कमज़ोर सा जिस्म था 

शायद एक गोली से भी खत्म हो सकता था

हो सकता है गोली भी ना चलानी पड़ती

कुछ दिन में अपने आप ही मर जाता

जिस्म ही तो था

तीन गोलियां बर्बाद कर दी

और वो मरा भी नहीं

जिसका मरना मकसूद था

वो तो खुशबू सा हवा में बिखर गया

हज़ारों गोलियां आज भी मारी जाती है

हज़ारों बार जलाया जाता है

फांसी पर भी बेहिसाब बार लटकाया जात

Read More! Earn More! Learn More!