कह नहीं पाया's image
3K

कह नहीं पाया


तकरारों के तूफानों में दिल का हिस्सा बह गया
सन्नाटों की दूरीयों में दिल का किस्सा रह गया

तुम्हारे कडवे, चुभते ताने मैं सह नहीं पाया
कितने सही हो तुम, मैं तब कह नहीं पाया

छोटी छोटी बातें कब इतनी बडी बन गई पता ही नहीं चला
मैं सही, तुम गलत का वो जहर कब चढा पता ही नहीं चला

एक बिस्तर में भी एक न हो सके
तुम अपने और मैं अपने अ

Read More! Earn More! Learn More!