सुन रे #4 (स्वेद दीन का)'s image
294K

सुन रे #4 (स्वेद दीन का)

श्रम से चलती धुरी धरा की, जानत है हर कोय,

स्वेद बहता श्रम करने में, रंक कि राजा होय।

सुन रे, मति संसार की ऐसी फिरी है आज,

स्वेद दीन का श्रमजल क

Tag: poetry और4 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!