सबूत-ए-इश्क़'s image
302K

सबूत-ए-इश्क़

लॉक-डाउन हुआ शहर सारा,

जुदाई के दिन हैं।

सबूत-ए-इश्क़ मैं और क्या दूँ तुझे,

इक दरिया-ए-अश्क़ बहता है, जहाँ है बसेरा मेरा।

Tag: poetry और4 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!