इरफ़ान ख़ान के लिए's image
286K

इरफ़ान ख़ान के लिए

तीर-ए-तरकश लिए खड़ा है तैयार तू, जानता हूँ, 

मानता हूँ तेरा हुनर,ए वक्त,निशानेबाज़।

इस बार चूक गया होता निशाना गर,तो अच्छा होता।

Tag: poetry और2 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!