हम हर शाम टूटते हैं हर रात बिखरते हैं's image
78K

हम हर शाम टूटते हैं हर रात बिखरते हैं

जिम्मेदारियों की बेड़ी में बंध कर

आसमान छूने निकले हैं

करोड़ों की इस भीड़ में

अपना नाम बनाने निकले हैं

चलते हैं दौड़ते हैं गिर जाते हैं

खुद ही उठते हैं और खुद ही संभल ज

Read More! Earn More! Learn More!