कुपित कृष्ण's image
Poetry5 min read

कुपित कृष्ण

samarpan.swamisamarpan.swami February 27, 2023
Share0 Bookmarks 64886 Reads1 Likes

साक्षी

कुरुक्षेत्र की पावन भूमि

वाणझड़ी से सिंचित थी,

कोख धरे वह रक्तसरोवर

मृत देहों को जनती थी ।

युद्ध नहीं यह हार-जीत का

नहीं समर सिंहासन का,

शूर-वीर की, सत्य धर्म की

कठिन परीक्षा, टक्कर थी ।



मृत्यु-प्रलय पर थिरक रहा

नृत्य भीष्म के तांडव का,

ताल तोड़ने ध्वंसनाद का

बना काल सा अर्जुन था।

छाया-काया, वज्र-आग सम

पौत्र-पितामह सम्मुख थे

महाकाल बन कवलित करने

इक दूजे का मुख टोहे ।

भावुकता के बादल अब

विषम पाश बन अर्जुन का,

तेज हरण कर इन्द्रपुत्र का

डाला यादों के कारा में ।

 

अर्जुन

बचपन में इनकी गोदी चढ़

जब कहता था ’मेरे ताता!’

हँसकर कहते, ’हूँ मैं बेटा,

तात तुम्हारे तात का ।’

जिनकी छाती रोये-सोये

श्वेत श्मश्रु धर खेले थे;

कैसे करुँ वह छत्र छिन्न

जो पिता, पितामह, त्राता थे |

रे धर्म समर! कह जीवन में

कठिन परीक्षा लेते क्यों?

निज से निज को टकराकर

चिह्नहीन बनवाते क्यों|

है बंधु-पराया कोई नहीं

क्यों बोलो, कहते ऐसा तुम?

निश्चित ही इस जग में तेरा

कोई अपना नहीं कहने का!

 

साक्षी

वाण मचलते लिए हाथ

लक्ष्य भेदते रहे पार्थ ।

पर, भीष्म कहाँ, औ तीर कहाँ?

वह वेग कहाँ? वह तेज कहाँ?

 

वीर पितामह धीर अपि

देख पौत्र को कंपित थे,

पर उनके वे प्रलय-वाण

हड़कम्प प्रचंड मचाए थे । 

देख पार्थ को विचलित यूँ

कृष्ण दिए सघन ललकार ।

काठ बने अर्जुन कानों ने

सुनी नहीं, पर, एक गुहार ।

देख सैन्य का महानाश अब

कुपित कृष्ण का क्रोध भयंकर

फूटा यूँ वाणी बनकर ।


कृष्ण

मोहग्रस्त क्यों तेज तुम्हारा?

तीक्ष्ण अस्त्र क्यों कुंठित आज?

धरती धकधक करने वाले

कदम हुए क्यों कंपित आज?

समराँगण नहीं, होमकुण्ड यह

हविषा पावन माँग रहा;

यज्ञपात्र में तूने क्यों, पर

धूल, भस्मकण भर रखा?

गंगपुत्र का करते अंत

मन में क्यों यह शोक-ताप?

कर विदा बल, वीर्य, तेज सब

गले धरे क्यों हो अवसाद?

काठसंग से जलता कीट,

अन्नसंग से पिसता वह ,

साथ अधर्मी का देने पर

शिष्टों का होता निश्चित वध ।

कवच अभेदा बन अबतक

दिए भीष्म दुष्टों का साथ;

आज युद्ध के दावानल में

बने र

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts