खत का पुलिंदा's image
Poetry1 min read

खत का पुलिंदा

samarpan.swamisamarpan.swami February 27, 2023
Share0 Bookmarks 61107 Reads1 Likes

आज बस यूँ खयाल आया

खोलूँ उस बंद पुलिंदे को

समेट रखा जिसने अपनी साँसों से

पढ़े अनपढ़े वे खत

जो तुम भेजते रहे मुझे

सांझ उषा दिवा निशा

पहर पक्ष माह वत्सर |


यूँ चले जाते थे अपनी राह

खत की बूँद टपका

ज्यों गहन सागर

रहे भँवर के साथ

अनछुआ, निर्विकार |


एक अजीब-सी महक आई

खत-पुलिंद से

हजारों मिले थे खुशबू जिनमें

उपलब्धियों की

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts