अनेकों विरह- पीर के बाद भी, हे प्रियतम ! मैं चाहती हूँ , तुम्हारे प्रेम में राधा-सा होना..'s image
Poetry1 min read

अनेकों विरह- पीर के बाद भी, हे प्रियतम ! मैं चाहती हूँ , तुम्हारे प्रेम में राधा-सा होना..

sakshirishi84sakshirishi84 January 15, 2023
Share0 Bookmarks 57470 Reads1 Likes

इस सांसारिक प्रेम से परे,

हे प्रियतम !

मैं चाहती हूं

तुम्हारे प्रेम में

गोकुल की गोपियों-सा होना,

उनके

निष्काम प्रेम की ही तरह

मेरे प्रेम का भी

उतना ही पवित्र होना,

और

और मैं चाहती हूँ,

प्रेम का

उस चरम तक पहुँचना

जैसे

राधे-कृष्ण का दिव्य प्रेम,

जिससे जन्म लिया

प्रेम की परिभाषा ने

जिससे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts