ताबीज़'s image
Share0 Bookmarks 59564 Reads0 Likes

कोई ताबीज़ है, दुआ कोई

मुझे लगता है तू ख़ुदा कोई


अक्स अपना भी अब नहीं दिखता

साज़िश-ए-आईना है क्या कोई?


एक अंधी गुफ़ा के जैसा दिल

इब्तिदा है ना इंतिहा कोई

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts