Beloved poetry's image
Share0 Bookmarks 264653 Reads0 Likes

समंदर पिया तो हैरां नही था मैं, रेत का सेहरा पीए जा रही है...


ए महबूब-ए-सितमगर ये कैसा मंज़र है तिश्नगी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts