मुसाफिर's image
Share0 Bookmarks 219661 Reads0 Likes

मुसाफिर हैं हम सब ,

कब तक रहेंगे ना कोई ठिकाना,

एक दिन चले जाना है ।

ए रिश्ते नाते यहीं रह जायेंगे,

बस अपनी यादों को छोड़ जाना है ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts