गुलाब की दास्ताँ's image
Kavishala SocialPoetry1 min read

गुलाब की दास्ताँ

Sahdeo SinghSahdeo Singh November 4, 2021
Share0 Bookmarks 170543 Reads0 Likes

गुलाब के खिले

सुन्दर मनमोहक

फूलों से मैने पूछा

भाई तुम्हारे शरीर में

कांटे धसे हुए हैं आप

को दर्द नहीं होता ?

फूलों ने मुस्कराकर कहा

हमने नियति को स्वीकार

कर लिया है फिर दर्द और क्षोभ

क्यों ?

हम तो हर हाल में खिलखिलाते

मुस्कराते हैं और सन्देश देते हैं

की खुश रहना ही जीवन का<

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts