ज़िंदगी की चाल's image
75K

ज़िंदगी की चाल

हाल ज़िंदगी का बेहाल है

भटकी हुई सी

ज़िंदगी की चाल है


गिरना ,रुकना फिर

उठना फ़िलहाल है

मसले ज़िंदगी के

सिर पर सवार हैं


सुलझे न सुलझता

Read More! Earn More! Learn More!