राब्ता ख़ुद से's image
77K

राब्ता ख़ुद से

तवज्जो देते देते थकने लगे हैं

क़दम कोशिशों के अब सिमटने लगे हैं


बंदिशों की बैड़ीयों को तोड़ने लगें हैं

कदमों के हौसले अब दौड़ने लगें है


दूजों की नज़रों में

Read More! Earn More! Learn More!