सपनों का मौसम's image
76K

सपनों का मौसम


आज फिर बदरा छाया है 

सावन का मौसम आ गया 

लगता है मुझको फिर 

तेरे आने का मौसम आ गया

रिम झिम बरखा की बूंदों में 

हम तुम सड़कों पर घूमेंगे खुशिया जो हमसे छिनी हैं   

उनको फिर से ढढ़ेगे होठो पे कहीं हंसी छुपी है 

खुशियों का मौसम आ गया 

लगता है मुझको फिर 

Tag: Love और5 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!