नादान परिंदा's image
1 min read

नादान परिंदा

Rohit Ki PoetryRohit Ki Poetry December 27, 2021
Share0 Bookmarks 65205 Reads0 Likes
खुले आसमान में
आजादी से खूब उड़ा हूँ:– मैं
दुश्मनों को मजे चखाने को
खूब लड़ा हूँ:– मैं
जिंदगी के नाजुक मोड़ पर आकर
थम गया हूँ:– मैं ,
लोग मुझे कमज़ोर समझने लगे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts