यूँ भी होना था's image
80K

यूँ भी होना था

मुद्दतों से था डर जिस का, आख़िर वो हो गया

ठेस लगी, दरार आई, नाज़ुक दिल टूट गया

जीने की कहाँ ज़्यादा, चंद ही तो वजहें थीं

कुछ जो सहारे थे, उनमें एक सहारा छूट गया


नाराज़गी तो वैसे, थी ही मुझ से मुक़द्दर को

दोनों ने मिल साज़िश की, जीवन भी रूठ गया


गौहर-ए-ग़म

Tag: Kavishala और3 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!