तरक़्क़ी's image
102K

तरक़्क़ी

तरक़्क़ी का है यही पैमाना

अपनों से ही दूर हो जाना

अतिथि बनके घर को आना

दो चार दिनों में वापस जाना

ख़ुद को काफी व्यस्त बताना


माँ-बाप कहते हैं बेटों से .... 

इतनी जल्दी जाता क्यूँ ऐसे

संग कुछ रोज़ और बिता ले

बेटे कहते हैं .... 

मजबूरी है, रुक नहीं सकते

वेतन काट लेंगे ऑफिस वाले


जवाब सुन, वे समझ जाते हैं

न चाह

Tag: poetry और3 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!