शे'र : II's image
Share0 Bookmarks 59905 Reads0 Likes

दो रोज़ हुए, गुफ़्तुगू नहीं हुई तुझ से

लगता है गोया मुद्दतों से ग़म-ज़दा हूँ मैं

............. 


रूह तो, कब की निकल चुकी है

ढो रहे हैं फ़क़त, वज़्न-ए-जिस्म को

.............. 


गर इश्क़ ख़ुदा है, बुतान-ए-इश्क़ तू है

मेरे ज़ीस्त की, मुसलसल ज़रूरत तू है

.............. 


तेरा मेरा राब्ता ज़माने की नज़रों में

मुक़द्दस तो नहीं, लेकिन

दिल पर दस्तक तूने,

ज़माने से पूछ कर तो नहीं दिया ! 

.............. 


इक तुम्हारी सदा ही तो, 

थी जीने की वजह, हम-नफ़स

वो भी नहीं अब

है इज़्तिरार, मेरी ज़िंदगी में हर-नफ़स

.............. 


फ़ना हो रहा हूँ तेरी कमी से

ज़रा-ज़रा, रोज़-रोज़

Send Gift

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts