कर्तव्य से अंजान : आधुनिक संतान's image
Poetry1 min read

कर्तव्य से अंजान : आधुनिक संतान

AbhishekAbhishek October 30, 2021
Share0 Bookmarks 173315 Reads0 Likes

रोजी-रोटी के वास्ते

है ज़रूरी नौकरी

लेकिन, दूर जाना

माता-पिता से

क्या इतना है लाज़मी ?

अरे, बेशर्म संतानों

मत बनो ख़ुदगर्ज़

पहचानो अपना फ़र्ज़

कर लो,<

Send Gift

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts