दिल जब किसी पे आता है's image
95K

दिल जब किसी पे आता है


नियम क़ायदों की दीवार
रस्मों रिवाजों के बंधन
तोड़ कर उन्मुक्त हो जाता है
दिल जब किसी पे आता है

शरारत की हद कहाँ तक
क्या है बेशर्मी का दायरा
पागल जान ना पाता है
दिल जब किसी पे आता है 

जीता है जिसकी ख़ातिर
उसी पे चाहता है मरना
फिर और कहाँ कोई भाता है
दिल जब किसी पे आता है 

इक ज़रा सी बेरुख़ी
बेवफ़ाई महबूब की
सहन नहीं कर पाता है
दिल जब किसी पे आता है 

पाप क्या ह
Read More! Earn More! Learn More!