अंतिम क्षणों की दस्तक's image
Poetry1 min read

अंतिम क्षणों की दस्तक

AbhishekAbhishek October 27, 2021
Share0 Bookmarks 228190 Reads0 Likes

मत घबरा तू,

ऐ मेरे दिल

चाहे हों जैसे,

हालातों के घाव I

बाक़ी है फ़क़त जीतना अब, 

ज़ख़्मों के चंद ही दाव II


फिर ना तुझको

ठेस लगेेगी,

होगा ना मनमुटाव I

एहसास करेगा

जिस लम्हा,

साँसों से अलगाव II


मत डगमगा, 

अंतर्मन क

Send Gift

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts