फूलों ने महकना छोड़ा कहाँ's image
98K

फूलों ने महकना छोड़ा कहाँ

फूलों ने महकना छोड़ा कहाँ बाग भले बीरान रहा, 

नदियों ने बहना छोड़ा कहाँ सामने भले चट्टान रहा |


जीवन को कह देना मुश्किल कितनी नादानी होगी, 

इंसा ने जीना छोड़ा कहाँ देखता भले शमशान रहा |


सुख दुःख सहज ही हिस्सा हैं

Tag: Kavishala और1 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!