अनजान चेहरा - रवि कान्त कुड़ेरिया's image
263K

अनजान चेहरा - रवि कान्त कुड़ेरिया

सुनकर उनकी आवाज़ को , इन आँखों ने एक तश्वीर बनाई थी।

होगा नोज़बां हैंडसम सा कोई , यही कल्पना मेरे मन में समाई थी।।

आज दीदार हुआ ज
Read More! Earn More! Learn More!