Shayari's image
Share0 Bookmarks 11800 Reads1 Likes

चन्द लम्हों में जो सिमट जाए,

वह सच्चा प्यार नहीं हो सकता,

तुम्हें पाने में सदियां ही क्यों न बीत जाए,

जब इज़हार किया है तो, इनकार नहीं हो सकता।


तेरी खूबसूरत आंखें किस काम क

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts